ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध | कक्षा 1 से 12 के लिए

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध: पृथ्वी की सतह के तापमान में वृद्धि को ग्लोबल वार्मिंग के रूप में जाना जाता है। भयानक समस्या बन गई है। ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव के कारण, पृथ्वी की मौसम प्रणाली की अनियमितता, गर्मी की लहरें, उष्णकटिबंधीय तूफान और जंगल की आग अब अधिक आम हैं।

ग्लोबल वार्मिंग ग्रीनहाउस प्रभाव, CO2 ईंधन जलने जैसे विभिन्न कारणों से पृथ्वी की सतह में बढ़े हुए तापमान की एक स्थिति है | ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध में हम इसके बचाओ तथा मुख्य कारणों के बारे में चर्चा करेंगे।

Welcome to Thenextskill. This page will help you compose a Hindi essay on global warming in different word lengths like 100, 150, 200, 250, 500 Words. If you want to learn the art of writing an engaging essay, you can read- Essay Writing Guide.


ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध | 10, 15 पंक्तियाँ

  • हमारी धरती माता साल-दर-साल गर्म होती जा रही है।
  • इस स्थिति को ही ग्लोबल वार्मिंग कहा जाता है।
  • यह सभी जीवों के लिए एक गंभीर समस्या है।
  • ग्लोबल वार्मिंग पर्यावरण को प्रभावित कर रही है।
  • यदि तापमान बहुत अधिक हो जाएगा, तो हमारा जीवन कठिन हो जाएगा।
  • पशु, पक्षी और पौधों का जीवन खतरे में पड़ जाएगा।
  • हम पानी की कमी की समस्या का भी सामना करेंगे, इसलिए पानी बचाना शुरू करें।
  • ग्लोबल वार्मिंग के कई कारण हैं।
  • कार्बन डाइऑक्साइड एक ग्रीनहाउस गैस और ग्लोबल वार्मिंग का एक कारण है।
  • ग्रीनहाउस गैसें विकिरण को अवशोषित करती हैं और पर्यावरण को गर्म बनाती हैं।
  • हमें इस गंभीर समस्या का समाधान खोजने की आवश्यकता है।
  • कार और बाइक जैसे वाहन कार्बन डाइऑक्साइड का बहुत अधिक उत्पादन करते हैं।
  • हमें यथासंभव कम वाहनों का उपयोग करने की आवश्यकता है।
  • पेड़ पर्यावरण से कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं।
  • इसलिए हमें ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगा सकते हैं।
  • हम कम दूरी तय करने के लिए साइकिल का उपयोग कर सकते हैं।
  • एक आरामदायक जीवन जीने के लिए पृथ्वी की मदद करें।

ग्लोबल वार्मिंग पर अनुच्छेद | 100, 150 शब्दों में

हमारी धरती माता साल-दर-साल गर्म होती जा रही है। इस स्थिति को ही ग्लोबल वार्मिंग कहा जाता है। यह सभी जीवों के लिए एक गंभीर समस्या है। ग्लोबल वार्मिंग पर्यावरण को प्रभावित कर रही है। यदि तापमान बहुत अधिक हो जाएगा, तो हमारा जीवन कठिन हो जाएगा।
पशु, पक्षी और पौधों का जीवन खतरे में पड़ जाएगा।

हम पानी की कमी की समस्या का भी सामना करेंगे, इसलिए पानी बचाना शुरू करें। ग्लोबल वार्मिंग के कई कारण हैं। कार्बन डाइऑक्साइड एक ग्रीनहाउस गैस और ग्लोबल वार्मिंग का एक कारण है। ग्रीनहाउस गैसें विकिरण को अवशोषित करती हैं और पर्यावरण को गर्म बनाती हैं। हमें इस गंभीर समस्या का समाधान खोजने की आवश्यकता है।

कार और बाइक जैसे वाहन कार्बन डाइऑक्साइड का बहुत अधिक उत्पादन करते हैं। हमें यथासंभव कम वाहनों का उपयोग करने की आवश्यकता है। पेड़ पर्यावरण से कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं। इसलिए हमें ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगा सकते हैं। हम कम दूरी तय करने के लिए साइकिल का उपयोग कर सकते हैं। एक आरामदायक जीवन जीने के लिए पृथ्वी की मदद करें।


ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध | 200, 250, 300 शब्दों में | अनुच्छेद |कक्षा 6, 7 और 8 के लिए

प्रस्तावना

ग्लोबल वार्मिंग ग्रीनहाउस प्रभाव, कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन, वनों की कटाई, ज्वालामुखी विस्फोट, मीथेन गैस, खनन, जीवाश्म ईंधन जलने जैसे विभिन्न कारणों से पृथ्वी की सतह में बढ़े हुए तापमान की एक स्थिति है। पिछले 50 वर्षों में, सामान्य वैश्विक तापमान सबसे तेज दर से बढ़ा है।

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध : प्रस्तावना

ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव

ग्लोबल वार्मिंग का जो प्रभाव हम पर पड़ रहा है, वह बहुत गंभीर है। यदि ग्लोबल वार्मिंग जारी रही, तो भविष्य में कई खतरनाक प्रभाव होंगे। यह बारिश के स्वरुप, समुद्र के जलस्तर को प्रभावित कर सकता है।

यह ग्लेशियर पिघलने, गर्मी की लहरों, और मौसमों की अनियमित अवधि आदि का कारण बन सकता है। वैज्ञानिक इस बात से सहमत हैं कि लंबे समय से पृथ्वी के बढ़ते तापमान के कारण हमें सूखा, भारी वर्षा और भयंकर तूफानों का सामना करना पड़ सकता है।

ग्लोबल वार्मिंग के कारण

ग्लोबल वार्मिंग का एक ही कारक नहीं है। इसके विभिन्न कारण हैं। कुछ प्राकृतिक हैं और कुछ मानव निर्मित हैं। प्राकृतिक श्रेणी में आने वाले कारणों में ग्रीनहाउस प्रभाव, ज्वालामुखी विस्फोट, मीथेन गैस और अन्य कुछ हैं। मानव निर्मित श्रेणी में आने वाले कारणों में वाहनों से कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन, वनों की कटाई, खनन और जीवाश्म ईंधन का जलना शामिल है।

हमारे कर्त्तव्य

इस समस्या का एकमात्र समाधान इस समस्या की गंभीरता के बारे में जागरूक होना है। व्यक्तियों और सरकार को ग्लोबल वार्मिंग पर काबू पाने के लिए अपने कर्तव्यों का वहन करना चाहिए। व्यक्तियों को कम से कम मोटर वाहनों का उपयोग करना चाहिए और कम दूरी तय करने के लिए पैदल या साइकिल का उपयोग करना चाहिए। वनों की कटाई पर रोक लगाई जानी चाहिए और अधिक से अधिक पौधे लगाए जाने चाहिए।

उपसंहार

ग्लोबल वार्मिंग हमारी पृथ्वी के लिए एक तरह की बीमारी है और हमें इसे ठीक करना है। ग्लोबल वार्मिंग ने मनुष्यों के लिए कई मुश्किलें पैदा कर दी हैं। हमें भविष्य की प्राकृतिक आपदाओं को रोकने की जरूरत है। हमें इन बीमारियों के खिलाफ पृथ्वी को सुरक्षित करने की आवश्यकता है ताकि हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए हमारी पृथ्वी सुरक्षित हो या उन्हें ग्लोबल वार्मिंग के परिणामों का अनुभव ना करना पड़े।


ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध । 500 शब्दों में | कक्षा 9, 10, 11 और 12 के लिए

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध के मुख्य बिंदु

  1. प्रस्तावना
  2. इसके कारण
  3. प्रतिकूल प्रभाव 
  4. इसे दूर करने के लिए समाधान
  5. ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध के लिए अंतिम शब्द

प्रस्तावना

“ग्लोबल वार्मिंग” शब्द स्पष्ट रूप से हमारे ग्रह “पृथ्वी” के औसत तापमान में हुई वृद्धि को दर्शाता है। ग्रीनहाउस की तरह वायुमंडल में कुछ गैसें होती हैं जो पृथ्वी के तापमान को गर्म कर देती हैं। ग्रीनहाउस में उपयोग किया जाने वाला काँच सूरज की रोशनी को और तीव्र कर देता है जिससे यह पृथ्वी की सतह को गर्म करने में सहायता करता है। इन सभी स्थितियों से जलवायु में त्वरित परिवर्तन होता है, और इसे जलवायु परिवर्तन कहा जाता है।

इसके कारण

ग्लोबल वार्मिंग विभिन्न कारकों के कारण होता है। कुछ प्राकृतिक हैं और कुछ हम मनुष्यों द्वारा निर्मित हैं। इन कारणों की विस्तृत जानकारी नीचे दी गई है।

प्राकृतिक कारण- ग्लोबल वार्मिंग के कई प्राकृतिक कारण हैं। कुछ अनियंत्रित हैं और कुछ हमारे द्वारा नियंत्रित किए जा सकते हैं। ग्रीनहाउस गैसें इस समस्या का एक मुख्य स्रोत हैं। जब हमारे वातावरण में ग्रीनहाउस गैस इकट्ठी हो जाती है तो हमारी पृथ्वी गर्म हो जाती है। पृथ्वी के तापमान में वृद्धि का एक अन्य कारण ज्वालामुखी विस्फोट है। जब एक ज्वालामुखी फूटता है, तो उसमें से जो लावा, भाप, गैसीय सल्फर यौगिक, राख और टूटी हुई चट्टानों का मिश्रण आदि निकलता है वह सारी सामग्री पृथ्वी की सतह के बहुत बड़े हिस्से पर फैल जाती है।चूँकि इसका तापमान बहुत अधिक होता है, यह पृथ्वी के तापमान को प्रभावित करता है।

मनुष्य द्वारा निर्मित कारण– मानव द्वारा उत्पन्न एक कारण कार्बन डाइऑक्साइड है। ईंधन आधारित वाहनों के बढ़ते उपयोग के साथ साथ, पर्यावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा भी बढ़ रही है। पेड-पौधे हवा से कार्बन डाइऑक्साइड अवशोषित कर लेते हैं लेकिन वनों की कटाई के कारण यह अभी भी एक समस्या है । बिजलीघरों और कारखानों में जीवाश्म ईंधन का जलना भी एक मुख्य कारण है।

ग्लोबल वार्मिंग के प्रतिकूल प्रभाव

ग्लोबल वार्मिंग हम पर और पृथ्वी पर बहुत भयानक प्रभाव डाल रहा है। नीचे यह चर्चा की गई है कि यह हमारे ग्रह और मानव जीवन को कैसे प्रभावित कर रहा है।

पृथ्वी पर प्रभाव– ग्लोबल वार्मिंग के कारण, पृथ्वी का तापमान धीरे-धीरे बढ़ रहा है। यह वर्ष 2035 तक 0.3-0.7 डिग्री सेल्सियस तक तापमान में वृद्धि का कारण बन सकता है। अगर हम आगे के 100 वर्षों के बारे में बात करते हैं तो यह पृथ्वी को पिछले 100,000 वर्षों की तुलना में अधिक गर्म बना देगा। यह बारिश के पैटर्न में बदलाव का भी एक कारण है जो सूखे और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं को जन्म देता है।

हमारे जीवन पर प्रभाव– यह हमारे जीवन को भी प्रभावित कर रहा है। बवंडर और तूफान भी इसके परिणाम हैं। जब ये होते हैं, तो बड़ी संख्या में संसाधन और मानव जीवन नष्ट हो जाते हैं। अगर ग्लोबल वार्मिंग जारी रहती है तो ये पहले से कहीं ज्यादा खतरनाक साबित होगी।

ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के उपाय

सरकार द्वारा समाधान- सरकार को वनों की कटाई पर प्रतिबंध लगाना चाहिए और इस पर भारी जुर्माना लगाना चाहिए। सरकार को वाहनों द्वारा उत्पन्न प्रदूषण पर नियंत्रण रखने के प्रबंध करने चाहिए। सरकार द्वारा लोगों को ईंधन से चलने वाले वाहनों के बजाय इलेक्ट्रिक वाहनों और साइकिलों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।

हमारे द्वारा समाधान- हमें कम दूरी तय करने के लिए साइकिल का उपयोग करना चाहिए और जितना संभव हो इलेक्ट्रिक वाहनों, सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना चाहिए। अधिक से अधिक पौधे लगाए जाने चाहिए ताकि वे वातावरण से कार्बनडाई ऑक्साइड को अवशोषित कर सकें।

अंतिम शब्द (उपसंहार)

जितना संभव हो स्थिति को नियंत्रित करना बहुत महत्वपूर्ण है नहीं तो हमारी आने वाली पीढ़ी को इसके परिणामों का सामना करना होगा। हम स्पष्ट रूप से जानते हैं कि क्या किया जाना चाहिए और क्या रोका जाना चाहिए। हम प्रकृति पर निर्भर हैं, यह हम पर निर्भर नहीं है। अतः हमें केवल अपना कर्तव्य निभाते हुए प्रकृति की सेवा करने की आवश्यकता है।

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध : उपसंहार

सम्बंधित प्रश्न ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध

  1. ग्लोबल वार्मिंग का क्या अर्थ है ?

    “ग्लोबल वार्मिंग” शब्द स्पष्ट रूप से हमारे ग्रह “पृथ्वी” के औसत तापमान में हुई वृद्धि को दर्शाता है।

  2. ग्लोबल वार्मिंग के मुख्य कारण क्या हैं ?

    ग्लोबल वार्मिंग ग्रीनहाउस प्रभाव, कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन, वनों की कटाई, ज्वालामुखी विस्फोट, मीथेन गैस, खनन, जीवाश्म ईंधन जलने जैसे विभिन्न कारणों से पृथ्वी की सतह में बढ़े हुए तापमान की एक स्थिति है।