(कोविड-19) कोरोना वायरस पर निबंध

कोरोना वायरस पर निबंध: COVID-19 जिसे आमतौर पर कोरोनावायरस के रूप में भी जाना जाता है एक बीमारी है जो श्वसन प्रणाली की बीमारी का कारण बनती है। COVID-19 के पहले मामले की पहचान दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर में हुई थी, जिसे कोरोनावायरस बीमारी का मूल स्थान भी माना जाता है।

उसके बाद, COVID-19 दुनिया भर में फैल गया। इसने अब तक लाखों लोगों की जान ले ली है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसे महामारी घोषित कर दिया है।

Welcome to thenextskill.com. Here below are given some Hindi essays on coronavirus in 100, 150, 200, 250, 300 & 500 Words. Choose the best one for you. You can also read our Essay Writing Guide to improve your writing skills.

कोरोना वायरस पर निबंध | 10, 15 पंक्तियाँ

  • कोविड-19 का पूरा नाम “कोरोनवायरस वायरस 2019” है।
  • पहला मामला दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर में मिला था।
  • यह मनुष्यों की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है।
  • यह सामान्य सांस लेने में कठिनाई पैदा करता है।
  • कोरोनावायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बहुत तेजी से फैलता है।
  • यह वायरस बच्चों और बूढ़े लोगों के लिए बहुत खतरनाक है।
  • छींकने, खांसने और बोलने पर पानी की छोटी-छोटी बूंदों में कोविड-19 फैलता है।
  • एक संक्रमित व्यक्ति इसे आसानी से अपने करीबी लोगों जैसे दोस्तों और परिवार के सदस्यों में फैला सकता है।
  • पूरी दुनिया बहुत कम समय में कोविड-19 से प्रभावित हुई है।
  • व्यक्तिगत स्वच्छता हमें कोरोनावायरस से बचने में मदद कर सकती है।
  • कोरोनोवायरस से बचने के लिए हमें हर घंटे अपने हाथ धोने चाहिए।
  • साथ ही, हमें भीड़ में ठीक से मास्क पहनना चाहिए।
  • सामाजिक दूरी बनाए रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है।
  • लोगों से हाथ मिलाने से बचना बेहतर है।
  • मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली इस वायरस से लड़ने में मदद करती है।
  • हमें ऐसे खाद्य पदार्थ खाने चाहिए जो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करें।
  • अंत में, सुरक्षित रहें घर पर रहें।

कोरोना वायरस पर अनुच्छेद | 100, 150 शब्दों में

कोविड-19 का पूरा नाम “कोरोनवायरस वायरस 2019” है। पहला मामला दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर में मिला था।
यह मनुष्यों की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है। यह सामान्य सांस लेने में कठिनाई पैदा करता है। कोरोनावायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बहुत तेजी से फैलता है।

यह वायरस बच्चों और बूढ़े लोगों के लिए बहुत खतरनाक है। छींकने, खांसने और बोलने पर पानी की छोटी-छोटी बूंदों में कोविड-19 फैलता है। एक संक्रमित व्यक्ति इसे आसानी से अपने करीबी लोगों जैसे दोस्तों और परिवार के सदस्यों में फैला सकता है। पूरी दुनिया बहुत कम समय में कोविड-19 से प्रभावित हुई है।

व्यक्तिगत स्वच्छता हमें कोरोनावायरस से बचने में मदद कर सकती है। कोरोनोवायरस से बचने के लिए हमें हर घंटे अपने हाथ धोने चाहिए।
साथ ही, हमें भीड़ में ठीक से मास्क पहनना चाहिए। सामाजिक दूरी बनाए रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है। लोगों से हाथ मिलाने से बचना बेहतर है। मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली इस वायरस से लड़ने में मदद करती है। हमें ऐसे खाद्य पदार्थ खाने चाहिए जो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करें। अंत में, सुरक्षित रहें घर पर रहें।


कोरोना वायरस पर निबंध | 250 शब्दों में | कक्षा 6, 7 और 8 के लिए

COVID-19 निबंध

COVID-19 जिसे आमतौर पर कोरोना वायरस के नाम से भी जाना जाता है एक बीमारी है जो श्वसन प्रणाली में बाधा उत्पन्न करती है। यह पहला वायरस है जिसने बहुत कम समय में पूरी दुनिया को प्रभावित किया है। कोविड-19 वायरस किसी संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने पर लार की छोटी बूंदों के साथ फैलता है।

COVID-19 के पहले मामले की पहचान दिसंबर 2019 में वुहान शहर, चीन में की गई थी जिसे कोरोनावायरस बीमारी का मूल स्थान भी माना जाता है। उसके बाद, COVID-19 दुनिया भर में फैल गया। इसने अब तक लाखों लोगों की जान ले ली है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे महामारी घोषित कर दिया है।

कोरोना वायरस पर निबंध | प्रस्तावना

कोरोना वायरस के लक्षण

सबसे आम लक्षण बुखार, सूखी खांसी, गले में खराश, सिरदर्द और थकान है। लेकिन ये लक्षण सबसे गंभीर नहीं हैं। सामान्य सांस लेने में कठिनाई, सांस की तकलीफ, सीने में दर्द या दबाव और बात करने में परेशानी COVID-19 के सबसे गंभीर लक्षण माने जाते हैं। WHO का सुझाव है कि गंभीर लक्षणों के मामले में तत्काल चिकित्सा सहायता ली जाए।

कोविद -19 के लिए रोकथाम

कोरोनावायरस बीमारी के उपचार के लिए कोई दवा या टीका उपलब्ध नहीं है लेकिन उनके लिए शोध जारी हैं। सभी जानते हैं कि रोकथाम इलाज से बेहतर है। तो WHO ने COVID-19 से बचने के लिए कुछ दिशानिर्देश जारी किए हैं। पहला, सोशल डिस्टेंसिंग जिसमें हर किसी को 1 मीटर की न्यूनतम दूरी बनाए रखनी होती है। दूसरा, बार-बार हाथ धोने से वायरस के चपेट में आने की संभावना कम हो जाती है।

तीसरा, मुंह और नाक को अच्छी तरह से ढकने वाला मास्क पहनना। इसके अलावा, लोगों से हाथ मिलाने और बिना वजह घर से बाहर जाने से बचें। साथ ही, छींकते या खांसते समय अपने मुंह और नाक को ढकें।

निष्कर्ष

अंत में, COVID-19 या कोरोनावायरस बीमारी एक घातक बीमारी है जिसने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है। यह डब्ल्यूएचओ द्वारा एक महामारी के रूप में घोषित किया गया है। अब इस महामारी का लगभग एक वर्ष हो गया है और हमारे पास कोई उचित टीका या उपचार उपलब्ध नहीं है। इस स्थिति से जल्द से जल्द बाहर निकलना बहुत महत्वपूर्ण हो गया है। तब तक, हमें उचित स्वच्छता से लैस रहने और उसकी जागरूकता फैलाने की आवश्यकता है।



कोरोना वायरस पर निबंध | 500 शब्दों में | कक्षा 9, 10, 11 और 12 के लिए

कोरोना वायरस पर निबंध के मुख्य शीर्षक (कोविड-19)

  1. परिचय (कोविद -19 पर निबंध)
  2. COVID-19 का प्रकोप
  3. कोविड- 19 के लक्षण
  4. लॉकडाउन का चरण
  5. बेहतर स्वच्छता और सामाजिक दूरी
  6. शिक्षा और अर्थव्यवस्था पर कोरोनोवायरस का प्रभाव
  7. अंतिम शब्द (निष्कर्ष)

परिचय (कोविद -19 पर निबंध)

COVID-19 या कोरोना वायरस सीरियस एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम कोरोनावायरस 2 (SARS-CoV-2) के कारण होने वाली बीमारी है। यह एक नया खोजा गया वायरस है जो इस वायरस परिवार से संबंधित है। COVID-19 के पहले मामले की पहचान दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर में हुई थी। यह लगातार दुनिया भर में फैल रहा है। इसीलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर दिया है।

यह एक जानलेवा बीमारी है जिसके कारण अब तक लाखों मौतें हो चुकी हैं। यह मनुष्यों में सामान्य श्वास पैटर्न में कठिनाइयां पैदा करता है। यह वायरस लार की छोटी बूंदों से फैलता है जब एक संक्रमित व्यक्ति छींकता है या खांसी करता है। यह आसानी से एक आदमी से दूसरे आदमी में फैल सकता है।

COVID-19 का प्रकोप

सब कुछ ठीक चल रहा था लेकिन चीन के वुहान शहर में अचानक एक वायरस फ़ैल गया। डब्ल्यूएचओ ने पहली बार 31 दिसंबर 2019 को पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के वुहान में इस नए वायरस की जानकारी हासिल की। वुहान के निवासियों में यह लगातार फैल रहा था। और समय के साथ इसने बहुत सारे लोगों को प्रभावित किया।

प्रवासी लोग चीन से अपने घरों को लौटने लगे और इस बीमारी को अपने देशों में ले जाने लगें। पलक झपकते ही यह बीमारी पूरी दुनिया में फैल गई। दुनिया भर में डर का माहौल उत्पन्न हो गया।

कोविड- 19 के लक्षण

COVID-19 अलग-अलग लोगों पर अलग-अलग तरीके से असर करता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोनोवायरस के लक्षणों को तीन वर्गों में वर्गीकृत किया गया है।

सबसे आम लक्षण: बुखार, सूखी खांसी और थकान सबसे आम लक्षण हैं।
कम सामान्य लक्षण: इस श्रेणी के अंतर्गत आने वाले लक्षण दर्द, गले में खराश, दस्त, सिरदर्द, स्वाद या गंध का अपूर्ण होना, त्वचा पर दाने, आदि हैं।

गंभीर लक्षण: गंभीर लक्षण जिनकी तत्काल चिकित्सा सहायता की आवश्यकता होती है वे इस प्रकार हैं: सांस लेने में कठिनाई या सांस की तकलीफ। सीने में दर्द या दबाव। बात करने में समस्या आदि।

लॉकडाउन का चरण

देशों द्वारा इस प्रकोप की गंभीरता का आकलन करने के बाद, सरकारों ने लॉकडाउन लगाने का फैसला किया। दौड़ती-भागती हुई दुनिया पूरी तरह से रुक गई। लोग अपने घरों में कैद हो गए। इस तरह का वातावरण दुनिया में पहली बार बना था। इसके प्रभाव से प्रत्येक क्षेत्र प्रभावित हुआ। यह पूरी दुनिया में सबसे असहज अनुभव था।

सभी देशों की अर्थव्यवस्था दांव पर आ गयी। शैक्षिक संस्थानों, सामाजिक समारोहों, सरकारी कार्यालयों, व्यवसायों और व्यापारों को रोक दिया गया। परिवहन प्रभावित हुआ और लोगों को अपने गाँवों की पैदल दूरी तय करनी पड़ी। मजदूर अपनी आजीविका कमाने में असमर्थ हो गए।

बेहतर स्वच्छता और सामाजिक दूरी

चूँकि कोरोनोवायरस रोग के उपचार के लिए अभी तक कोई दवा या टीका उपलब्ध नहीं है, इसलिए हमें रोकथाम के तरीकों का पालन करना होगा। कोरोनावायरस महामारी ने हम सभी को व्यक्तिगत स्वच्छता के महत्व के बारे में और अधिक जागरूक किया। कुछ वैज्ञानिक और चिकित्सा पर्यवेक्षणों के बाद, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने COVID-19 से बचाव के कुछ तरीके प्रकाशित किए। व्यक्तिगत स्वच्छता उनमें से एक है जो हमें कोरोनावायरस बीमारी के संपर्क से बचने में मदद करती है।

सभी को निर्देश दिया गया था कि वे एलकोहॉल-आधारित हैंडवाश का उपयोग करते हुए बार बार अपने हाथ धोएं। इसके अलावा, व्यक्ति को अन्य व्यक्तियों या व्यक्तियों के समूह से 1 मीटर की न्यूनतम दूरी बनाए रखनी होगी। जिसे आम तौर पर सोशल डिस्टैन्सिंग कहा जाता है। मुंह और नाक को अच्छी तरह से ढकने वाला मास्क पहनना COVID-19 से बचने का एक और तरीका है।

शिक्षा और अर्थव्यवस्था पर कोरोनोवायरस का प्रभाव

COVID-19 महामारी ने भारत के शिक्षा क्षेत्र के साथ-साथ विश्व को भी बुरी तरह प्रभावित किया है। लेकिन इसका शिक्षा पर कुछ सकारात्मक प्रभाव भी है। इसने डिजिटल लर्निंग को अपनाने में तेजी लाई। लेकिन यह बदलाव अभी के लिए बिल्कुल सही नहीं है। अचानक परिवर्तन एक छात्र की सीखने की प्रवृत्ति में उतार-चढ़ाव कर सकता है।

जैसा कि हर क्षेत्र ने इस COVID-19 महामारी के दौरान एक कठिन समय का सामना किया है और इसी प्रकार आर्थिक क्षेत्र ने भी। कोरोनोवायरस महामारी के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है। पूर्ण लॉकडाउन के पहले इक्कीस दिनों के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था को प्रतिदिन ₨ 32,000 करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ।

अंतिम शब्द (निष्कर्ष)

अंत में , कोरोना वायरस या COVID-19 महामारी ने बहुत ही कम समय में पूरी दुनिया को प्रभावित किया है। इससे अब तक बहुत सारी मौतें हुईं हैं। वर्तमान में हमारे पास कोई भी दवा या वैक्सीन उपलब्ध नहीं है। इसलिए इस वायरस से खुद को बचाना बेहद आवश्यक है। सोशल डिस्टन्सिंग, मास्क पहनना, बार-बार हाथ धोना सभी के लिए एक आवश्यकता है। इसके अलावा, सुरक्षित रहने के लिए, घर पर रहें।

कोरोना वायरस पर निबंध : उपसंहार

सम्बंधित प्रश्न –कोरोना वायरस पर निबंध

कोरोनावायरस (कोविड-19) क्या है?

कोरोनवायरस वायरस (COVID-19) एक संक्रामक बीमारी है जो एक नए खोजे गए कोरोनावायरस के कारण होता है।

सोशल डिस्टैन्सिंग क्या है?

सोशल डिस्टैन्सिंग से तात्पर्य दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच न्यूनतम दूरी बनाए रखना है ताकि वे एक दूसरे के संपर्क में न आएं।

कोरोनोवायरस कैसे फैलता है?

यह वायरस लोगों के बीच फैलता है जब किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ निकट संपर्क होता है। भीड़ से बचें और दूसरों से कम से कम 1-मीटर की दूरी बनाए रखें।